5g technology in hindi | 5G क्या है ?(5g india me kab aayega)/5g in india mobile

दोस्तों, हम लोग 1G, 2G, 3G, 4G और 5G बहुत सुने होंगे लेकिन G का मतलब होता क्या है G का मतलब होता है Generation अर्थात पीढ़ी।

1G का मतलब होता है फर्स्ट जनरेशन (First Generation) अर्थात पहली पीढ़ी, 2G का मतलब होता है सेकंड जनरेशन (Second Generation) अर्थात दूसरी पीढ़ी इस तरह से 5G का मतलब होता है फिफ्थ जनरेशन (Fifth Generation) अर्थात पांचवी पीढ़ी।

  • 5जी क्या है और भारत में कब आएगा। (5G india me kab aayega)

5G (fifth generation) 5वीं पीढ़ी का मोबाइल नेटवर्क है। यह 1G, 2G, 3G और 4G नेटवर्क के बाद एक नया वैश्विक वायरहीन (wireless) नेटवर्क है। 5G जनरेशन में हर चीज इंटरनेट से जुड़ जाएंगे। 5G आने के बाद लगभग सब कुछ रिमोट कंट्रोल हो जाएगा। दुनिया बहुत तेजी से आगे बढ़ने लगेगी। जो आज असंभव लग रहा है वह शायद 5G आने के बाद संभव हो सकता है। 5जी का इंटरनेट स्पीड 4G से कई गुना ज्यादा होगा। 5G नेटवर्क टावर लगाने का शुरुआत तो हो चुका है अनुमान लगाया जाता है कि 2022 या 2023 तक 5G भारत में आ सकता है। आईए 5जी के बारे में कुछ रोचक तत्व जानते हैं।

  • 5जी का खोज किसने किया।

कोई भी एक कंपनी या एक व्यक्ति 5G का मालिक नहीं है लेकिन बहुत सारी नेटवर्क कंपनियां है जो 5जी को लाने में मदद करते हैं। उदाहरण के तौर पर एयरटेल,आइडिया, जिओ, वोडाफोन इत्यादि यह सभी नेटवर्क कंपनियां भारत में 5G लाने में सहायक सिद्ध हो सकती है। अप्रत्यक्ष रूप से ये कंपनियां 5G का मालिक है। लेकिन कोई भी एक व्यक्ति या एक कंपनी 5G का मालिक नहीं हो सकती है। जिओ(JIO) जैसी कंपनियां यह दावा करती है कि उनका 5G नेटवर्क इंडिया में स्थापित हो गया है, उनका मानना है कि अगर ज्यादातर मोबाइल कंपनियां 5G मोबाइल को पब्लिक में उपलब्ध करा देती है तो हम 5G नेटवर्क लोगों को उपलब्ध कराएंगे।

  • Kbps,Mbps ओर Gbps क्या होता है और इसका फुल फॉर्म क्या है।

दोस्तों आगे बढ़ने से पहले आप यह जान लीजिए कि जिस प्रकार गति या स्पीड को मापने के लिए mps(meter per second), Kmps(Kilometer per second) जैसे पैमाने का उपयोग होता है इसी प्रकार इंटरनेट नेटवर्क की स्पीड को नापने के लिए kbps(Kilobytes per second), Mbps(Megabytes per second) और Gbps(Gigabytes per second) जैसे पैमाने का प्रयोग होता है। इसमें kbps सबसे छोटा पैमाना है और Gbps सबसे बड़ा पैमाना है।

  • 5G और 4G में विविधता क्या है।

पहले की जनरेशन का मोबाइल नेटवर्क 1G, 2G ,3G और 4G है। आइए, हम सब एक-एक करके इनमेंं विविधताए देखते हैं।

  • First Generation-1G (1980 में आया )
  1. यह सिर्फ एनालॉग सिग्नल पर कार्य करता था।
  2. इसका स्पीड 2.5kbps था। जो आज के जमाने में कोई भी इसका उपयोग नहीं करना चाहेगा।
  3. 1G यह सिर्फ नेटवर्क प्रणाली का आरंभ था।
  • Second Generation-2G (1990 में आया)
  1. इस जनरेशन में एनालॉग सिगनल, डिजिटल सिगनल में बदल गया।
  2. जिसके कारण पहले के मुकाबले मोबाइल फोन छोटा हो गया था।
  3. इसका स्पीड 40 kbps था। जो कि 1G के मुकाबले बहुत ही अच्छा था।
  • Third Generation-3G (2000 में आया।)
  1. इसमें लोग इंटरनेट का उपयोग करने लगे।
  2. इस जनरेशन में बहुत सारे लोग इंटरनेट की तरफ जाने लगे।
  3. स्काई स्पीड लगभग 3Mbps था।
  • Forth Generation-4G (2010 में आया।)
  1. इसने नई-नई स्मार्ट मोबाइल कंपनियां उभर कर आई।
  2. इस जनरेशन में लगभग पूरा दुनिया इंटरनेट से जुड़ चुका था।
  3. इसका स्पीड 50mbps है। इतना स्पीड हमारे फोन में नहीं दिखाता है क्योंकि एक ही नेटवर्क का बहुत से लोग उपयोग करते हैं। यह स्पीड उस कंपनी के मेन ऑफिस में ही दिखाता है।
  • Fifth Generation-5G (2021-2022 में आएगा।)
  1. 5G आने के बाद दुनिया बहुत तेजी से प्रगति करने लगेगी।
  2. बड़े-बड़े शहरों में स्कूल कॉलेज डिजिटल हो जाएंगे जिससे छात्रों को किताबों का बोझ सहन नहीं करना पड़ेगा। उन्हें पढ़ने के लिए सिर्फ एक लैपटॉप की जरूरत होगी।
  3. बड़ी-बड़ी कंपनियां भी डिजिटल हो जाएंगे जिससे उनका काम बहुत ही तेजी से हो सकता है।
  4. 5G का स्पीड 50mbps से लेकर 2Gbps होगा। जो कि बहुत ही ज्यादा है।
  • 5G का क्या नुकसान है।

दोस्तों 5G का हमारे जीवन में जिस तरह हमें फायदा है उसी तरह बहुत बड़े इसके नुकसान भी हैं। 5G के आने से हमारे वायुमंडल में उच्च आवृत्ति (High Frequency) वाले पराबैंगनी किरणें बढ़ जाएंगे जिससे हमारे डीएनए (DNA) को क्षति होने का खतरा बना रहेगा। यह पराबैगनी किरण हमें नग्न आंखों से नहीं दिखाई देती है। डीएनए क्षति होने से हमें बहुत नुकसान होते हैं, हमारी आयु कम हो जाती है हमें कैंसर होने का संभावना बढ़ जाता है और विभिन्न प्रकार की शारीरिक समस्याएं उत्पन्न होती है। उच्च आवृत्ति वाली तरंगों के कारण बहुत सारे छोटे-छोटे पशु पक्षी विलुप्त हो जाएंगे। जिनकी जनसंख्या 4G के आने से कम हो गई है।

  • क्या 5जी अभी भारत में उपलब्ध है।

हां, 5G भारत में उपलब्ध है उसे इसलिए अभी पब्लिक में लॉन्च नहीं किया जा रहा है क्योंकि 5G के लिए अनुकूल परिस्थितियां नहीं है। भारत में 5G के स्मार्टफोन बहुत ही कम मात्रा में उपलब्ध है। अगर लांच भी हो जाता है तो इसका उपयोग करने वाले बहुत ही सीमित लोग हैं जिससे कंपनियों को घाटा का सामना करना पड़ेगा। जियो (JIO) ने 5G लॉन्च करने की पूरी तैयारी कर ली है। अगर पब्लिक को इसकी आवश्यकता बहुत ज्यादा होगी तब jio 5G को मार्केट में लॉन्च करेगा।

  • क्या हमें 5G नेटवर्क का उपयोग करने के लिए 5जी मोबाइल लेना पड़ेगा?

हां, जिस तरह हम 4G नेटवर्क का उपयोग करने के लिए 4G मोबाइल लेना पड़ता है उसी प्रकार 5G नेटवर्क का उपयोग करने के लिए 5G मोबाइल लेना पड़ेगा। भारत में MI (Xiaomi Mi 10), Realme (Realme X3), OnePlus( OnePlus 8) और SAMSUNG (Samsung S10) जैसी कंपनियां 5G फोन लॉन्च कर चुकी है। यह 5G फोन भारत के बहुत ही कम उपयोगकर्ताओं के पास है। जैसे-जैसे 5G मोबाइल के उपयोगकर्ता भारत में बढ़ेंगे तभी 5G नेटवर्क लॉन्च हो जाएगा।

*अगर आपको उपरोक्त पोस्ट पढ़ने में कोई भी समस्या आई है तो हमे कमेंट (comment) में अवश्य बताएं ताकि हम उसे सुधार सके। *

धन्यवाद।

5 thoughts on “5g technology in hindi | 5G क्या है ?(5g india me kab aayega)/5g in india mobile”

  1. Very good article! We are linking to this particularly great content on our site. Keep up the great writing.

Leave a Comment

Your email address will not be published.