Captcha का मतलब

CAPTCHA का मतलब क्या होता है और CAPTCHA क्यो भरते है?

आपने भी जीवन में कभी ना कभी कैप्चर भरे ही होंगें। आपके मन में भी ऐसा सवाल आता होगा कि CAPTCHA का क्या मतलब होता है तथा कैप्चा क्यों भरते हैं, Captcha का किसी वेबसाइट में क्या उपयोग है? और भी है ऐसे सवालों का जवाब जानने के लिए आप इस पोस्ट को ध्यान से पढ़िए आपको सब कुछ पता चल जाएगा।

ज्यादातर बड़ी-बड़ी कंपनियां अपनी वेबसाइट को आसानी से चलाने के लिए Captcha का उपयोग करते हैं। कैप्चा की मदद से किसी भी वेबसाइट को क्रैश होने से बचाया जा सकता है।

Programing की मदद से internet की दुनिया का विकास हुआ। लेकिन ‍‍‍‍‍‍‍‌‌यही programing कैप्चा आने से पहले इंटरनेट को नष्ट करने का हथियार बन गया था‌।‌ ‍‌‌‍‍

आपने सुना ही होगा कि लोहे को लोहा काटता है। कुछ इसी तरह का खेल यहां भी हो रहा था। कैसे? यह आपको आगे पताा चल जाएगाा।

CAPTCHA की जरूरत क्यों पड़ी?

कैप्चा का मतलब। किसी भी वेबसाइट को क्रैश या spamming से बचाने के लिए कैप्चा का उपयोग किया जाता है। कैप्चा bots और मनुष्य में भिन्नताएं बताने का प्रयास करता है। कैप्चा किसी भी वेबसाइट को हैकरों से बचाता है।

CAPTCHA का full form :-

C = Completely

A= Automated

P= Public

T= Turning test to tell

C= Computers and

H= Human

A= Aparts

अब Captcha का मतलब विस्तार से समझने का प्रयास करतेे हैं,

जब इंटरनेट के युग का शुरुआत हो रहा था उसी समय Hackers ने अपने प्रोग्रामिंग कौशल (skills) के माध्यम से बड़ी-बड़ी website को crash (खराब) कर देते थे।

Hackers जिसको programming की अच्छी जानकारी थी। वे लोग अपनी programming skills की मदद से बोट (bots) बनाते थे इस bots के मदद से ये किसी भी वेबसाइट को अपनी मन मुताबिक चलाने का प्रयास करते थे और उस वेबसाइट पर स्थित महत्वपूर्ण जानकारियों के साथ छेड़छाड़ करते थे।

Bots क्या होता है?

Bots Programming knowledge द्वारा बनाया गया script (code) है जिसकी मदद से Programmer किसी काम को अन्य मनुष्य से 10 गुना तेज कर सकता है? इसे आप एक तरह से software robot भी कह सकते हैं।

जिससे साधारण व्यक्ति जिसको उस वेबसाइट की जरूरत थी वह उपयोग नहीं कर पाता था। जिसके लिए इस समस्या का हल निकालना बहुत ही महत्वपूर्ण हो गया था।

तभी इंटरनेट के जानकारों ने इस समस्या को हल करने के लिए विचार किया। इंटरनेट के जानकार जैसे लुईस वोन आह (Luis von Ahn), मैनुअल ब्लम (Manuel Blum) , निकोलस जे. हूपर (Nicholas J. Hopper), और जॉन लैंगफोर्ड (John Langford) ने विचार किया और एक निष्कर्ष पर पहुंचे।

इन्होंने कुछ ऐसे शब्दों को ढूंढा जिन्हें programmers द्वारा बनाए गए bots नहीं पढ़ पाते थे। जैसे कि HELLO को “|-|3|_|_()” or “)-(3££0” लिखा जाने लगा।लेकिन CAPTCHA का मतलब तथा CAPTCHA क्यों भरते हैं दुनिया में सभी लोगोंं को बताना आसान नहीं था।

जब इन्होंने सोचा कि “|-|3|_|_()” or “)-(3££0 इन शब्दों को बीच-बीच में लोगों से लिखने के लिए बोला जाए और वही पर CAPTCHA का मतलब लोगोंं को बता दिया जाए तो लोगों को समझ में आने लगेगा की कैप्चा क्यों उपयोग करते हैं और इंटरनेट पर मौजूद सभी वेबसाइट भी सुरक्षित रहेंगी। क्योंकि bots इन शब्दों को नहीं पढ़ सकते हैं। जिसके कारण इसका उपयोग भी नहीं कर सकते हैं।

यह हर वक्त बदलता रहता है इसलिए Hackers इसके लिए bots भी नहीं बना सकते। जिससे सभी व्यक्ति इंटरनेट से अपनी-अपनी मनपसंद की जानकारी आसानी से हासिल कर सकेंगे।

Hackers अपने द्वारा बनाए गए bots का उपयोग कैसे करते हैं?

अब हम देखते हैं कि Hackers bots को कैसे बनाते हैं और इसका उपयोग कैसे करते हैं?

इसको हम सरल भाषा में समझने का प्रयास करते हैं,

अगर आप टीवी या मोबाइल चलाते हैं तो बैकग्राउंड (background) में इसके अंदर के parts चलते रहते हैं। यह तो आपको मालूम ही होगा।

बिल्कुल इसी तरह से जब आप कोई भी वेबसाइट या ऐप ओपन करते हैं तो इस वेबसाइट या ऐप के बैकग्राउंड (Background) में coding part चलती रहती है। यह आपको महसूस नहीं होगा क्योंकि यह सॉफ्टवेयर पार्ट है। वेबसाइट में कोई भी physical वस्तु नहीं लगी रहती है। यह सभी कोडिंग पर चलता है।

Bots प्रोग्रामिंग के मदद से बनाए जाते हैं। Bots को बनाने के लिए Hackers सबसे पहले प्रोग्रामिंग सीखते हैं इसके बाद प्रोग्रामिंग भाषा में script ( code) लिखते हैं।

अब जिस वेबसाइट को crash करना रहता है उस वेबसाइट पर इस bots को run कर देते हैं। जिससे bots बहुत ही तेजी से वेबसाइट को command ( massage) भेजते हैं कमांड बहुत तेजी से भेजे जाने के कारण वेबसाइट इसे हैंडल नहीं कर पाता है जिसके कारण crash हो जाता है।

जब वेबसाइट क्रैश हो जाता है तो कोई भी व्यक्ति उस वेबसाइट को open करेगा तो वेबसाइट द्वारा कोई भी रिस्पांस (response) नहीं मिलेगा। जिसका अर्थ है उस वेबसाइट पर कुछ नहीं दिखेगा।

CAPTCHA का असली उपयोग उदाहरण के साथ।

कैप्चा का असली उपयोग हम लोग एक उदाहरण से समझते हैं,

जब आप IRCTC की वेबसाइट से टिकट बुक किया होगा तो आपने देखा होगा कि वहां भी आपको कच्चा भरना पड़ता है। तो ऐसा क्यों होता है आपको यह आज पता चल जाएगा।

मान लीजिए सुबह 10:00 बजे टिकट बुकिंग की वेबसाइट open होती है। तो सभी लोग 5 या 10 मिनट पहले से ही मोबाइल या लैपटॉप चालू करके बैठ जाते हैं ताकि जब वेबसाइट खुलेगा तुरंत ही बुक कर लें।

बुकिंग करने के लिए आपको अपना अकाउंट बनाना होता है, अगर आपका अकाउंट पहले से ही बना है, तो लॉगिन(log in) करना पड़ता है, लॉग इन करने के बाद आप टिकट कहां से कहां तक बुक करना चाहते हैं, वह सिलेक्ट करेंगे इसके बाद तारीख़ तथा समय निर्धारित करेंगे और फिर पेमेंट करेंगे। इतना काम करने में आपको कम से कम 2 या 3 मिनट का वक्त लग ही जाता होगा।

अगर hakers, bots की मदद से यही काम सिर्फ 5 या 10 सेकंड से कम वक्त में कर ले तो पूरा टिकट उन्हीं के पास चला जाएगा। जिससे 5 मिनट में ही पूरा टिकट बिक जाएगा और साधारण आदमी को टिकट नहीं मिल पाएगा। जिससे लोगों में गुस्सा फैल जाएगा।

इन्हीं hakers को रोकने के लिए IRCTC वेबसाइट पर कैप्चा का उपयोग किया जाता है। जिसे bots इस CAPTCHA का मतलब नहीं समझ पाते हैं।

फल स्वरूप टिकट बुक करने के लिए आदमी को ही काम करना पड़ेगा। जिसमें औसतन सबको उतना ही टाइम लगेगा जितना साधारण आदमी को लगता है। जिसके कारण ज्यादातर लोगों को टिकट मिल सकेगा।

CAPTCHA के कितने प्रकार होते हैं?

CAPTCHA के विभिन्न प्रकार होते हैं जो किसी भी वेबसाइट तथा ऐप को आसानी से चलाने के लिए उपयोग किया जाता है। अगर आप CAPTCHA के मतलब तथा CAPTCHA के ‌प्रकार के बारे में जान जाएंगे तो आपको अपनी वेबसाइट के लिए कौन सा Captcha लेना है यह भी आसानी से पता कर सकेंगे।

आपको पता होगा किसी भी वस्तु की फायदे होते हैं तो उसके नुकसान भी होते हैं इसी प्रकार कैप्चा के भी फायदे और नुकसान दोनों हैं,अब हम लोग कैप्चा के विभिन्न प्रकार और एक-एक करके इनके कुछ लाभ और नुकसान भी देखेंगे।

Captcha के विभिन्न प्रकार इस तरह से हैं:-

Word Captcha

आपने देखा होगा कि कुछ ऐसे कैप्चा होते हैं जिसमें टेढ़े-मेढ़े शब्द रहते है या फिर शब्दों के पीछे कुछ टेढ़े मेढ़े लाइन होते हैं, जिन्हें पढ़कर भरना पड़ता है। इन्हें word Captcha कहा जाता है। इस प्रकार के कैप्चा ज्यादातर जगहों पर उपयोग होता है।

लाभ:- इसे कोई भी व्यक्ति जो आसानीी से शब्दों को देखकर समझ पाता है वह इसका उपयोग कर सकेगा। इसका उपयोग किसीी छोटे वेबसाइट को चलानेेे के लिए होताा है।

हानि:- आजकल टेक्नोलॉजी बहुत ही तेजी सेेेे विकास कर रही है जिसकेे कारण bots बहुत ही बुद्धिमान हो गए हैं। तो यह किसी बहुत ही बड़े वेबसाइट के लिए उपयुक्तत नहीं है।

Confident captcha

इस प्रकार के कैप्चा में यूजर को छोटे-छोटे इमेज दिया जाता है और कहा जाता है कि आप इसमें साइकिल दिखाइए, बस दिखाइए, ट्रैफिक सिग्नल लाइट दिखाइए इत्यादि।

लाभ :- अभी तक की टेक्नोलॉजी के हिसाब से इस प्रकार के कैप्चा को व्हाट्स सॉल्व नहीं कर सकते हैं।

हानि:- कभी-कभी लोगों को भी ऐसी कैप्चा सॉल्व (solve) करने में कठिनाई होती है। अगर कोई व्यक्ति इन छोटे-छोटे फोटो में से सही इमेज नहीं खोज जाता है तो उसे फिर से उसी तरह के दूसरा कैप्चा भरना पड़ता है। जो बहुत ही निराशाजनक है।

Time-Based Captcha

यह कैप्चा समय को मापता है कि कोई भी मनुष्य किसी फॉर्म को भरने में कितना समय लगाता है। Bots सेकंडो में कोई भी फॉर्म आसानी से भर सकते हैं। लेकिन मनुष्य को फॉर्म भरने में कम से कम 1 या 2 मिनट का वक्त लगता ही है।

लाभ:- कैप्चा भरने का यह बहुत ही प्रभावशाली तरीका है। इसके लिए bots बनानाा भी मुश्किििल काम है।

हानि:- कभी-कभी एक ही फॉर्म को हजारों बार भरने की जरूरत पड़ती है जिसमें पता या मैसेज एक जैसा होता है। जिसे बार-बार लिखने की जरूरत पड़ती है।

Math’s Problems Captcha

इस तरह के कैप्चा में आपसे गणित के एकदम बेसिक सवाल पूछे जाते हैं। जैसे कि जोड़, घटाना जो बहुत ही आसान होते हैं। उदाहरण के तौर पर 4+2=? पूछा जाता है।

लाभ:- इस प्रकार के कैप्चा को कोई भी व्यक्ति आसानी से सॉल्व कर सकता है।

हानि:- इस कैप्चर पर पूर्णता विश्वास करना जायज नहीं होगा। क्योंकि कभी-कभी bots भी इसे solve कर देते हैं।

Social Media sign in/sign up Captcha

अगर आप किसी वेबसाइट पर जाते हैं तो आप से अपने सोशल मीडिया अकाउंट (Facebook, Google, etc) से साइन इन या साइन अप करने के लिए कहा जाता है। यह भी एक प्रकार का कैप्चा ही है।

लाभ:– इस प्रकार के कैप्चा को बहुत ही सुरक्षित माना गया है। क्योंकि bots के पास सोशल मीडिया अकाउंट नहीं होता है।

हानि:– ज्यादातर लोग किसी भी वेबसाइट से अपनी सोशल मीडिया अकाउंट को लिंक नहीं करना चाहते हैं। क्योंकि यह उनकी सिक्योरिटी का सवाल होता है।

Honeypot

इस तरह की कैप्चा में बैकग्राउंड में लाखों खाली जगह छोड़ देते हैं। जिसमें इधर-उधर फालतू की जानकारियां भरनी होती है। जिसे सिर्फ बोट ही देख पाते हैं। मनुष्य इस जगह को नहीं देख सकता है और ना ही इस जगह को भरता है। जब वोट इन सभी जानकारियों को भरता है तब वेबसाइट समझ जाता है कि यह मनुष्य नहीं हो सकता है।

लाभ :- किसी भी वेबसाइट को crash होने से बचाने के लिए यह बहुत ही अच्छाा तरीका है क्योंकि इसमें किसीी को कुछ भी भरने की जरूरत नहीं होती है।

हानि:- तेजी से बढ़ती हुई टेक्नोलॉजी के कारण यह संभव है की बुद्धिमान bots भविष्य में आ जाए और इस खाली जगह को ना भरकर मनुष्य की तरह ही व्यवहार करें।

Sweet Captcha

Sweet Captcha मैं मिलते जुलते वस्तुओं की जोड़ियां मिलानी होती है। उदाहरण के तौर पर कोई एक शर्ट का इमेज दिया रहेगा उसको सूटकेस के इमेज से मिलाना रहेता है।

लाभ:- यह कैप्चा बहुत ही प्रभाव कार्य सिद्ध हुआ है। क्योंकि इस कैप्चा को भरने के लिए व्हाट्स बना रहा बहुत ही मुश्किल काम है।

हानि: – कभी-कभी लोग एक तरह की वस्तुएं नहीं खोज पाते जिसकी वजह से जोड़िया भी नहीं मिला पाते हैं।

No Captcha recaptcha

No Captcha recaptcha यह कैचा का प्रकार है इसमें यूजर के सामने लिखा हुआ आता है I am not robot वहीं पर एक छोटा सा बॉक्स बना हुआ होता है उसमें क्लिक करना रहता है। कोई भी मनुष्य बॉक्स के एकदम बीच में क्लिक नहीं कर सकता वह बॉक्स में ही थोड़ा सा इधर-उधर क्लिक करता है। लेकिन bots बाक्स के एकदम बीच में ही क्लिक करते हैं। इस प्रकार bots और मनुष्य के बीच में अंतर बताया जा सकता है।

कैप्चाा को भरने के लिए कोोई भी व्यक्ति बॉक्स में अंगुली से क्लिक करेगा या फिर माउस से क्लिक करेगा। अगर उंगली से क्लिक होता है तो रोबोट होने का सवाल हीी नहीं होता है। अगर माउस से क्लिक होता है तो माउस का कर्सर कैसे और कहां सेे आया इस को ध्यान में रखते हुए पता लगाता है की रोबोट्स हैै या नहीं।

लाभ:-यह कैप्चा गूगल द्वारा प्रस्तुत किया गया जो बहुत ही बढ़िया है क्योंकि इसमें किसी को कुछ भी भरने की जरूरत नहीं पड़ती आसानी से बॉक्स पर क्लिक करने से सही का निशान हो जाता है।

हानि:- अगर कोई व्यक्ति संभवत बॉक्स के बीच में क्लिक कर देता है तो जब तक उससे बीच में क्लिक होता रहेगा। तब तक कैप्चा भरना पड़ता है यह बहुत ही निराशाजनक है।

Invisible recaptcha

यह No Captcha recaptcha का ही updated version है इसमें कहीं भी न तो कुछ भरना रहता है नाही किसी बॉक्स पर क्लिक करना रहता है ना ही जोड़ियां मिलानी रहती है यह user के movement को देखता है और पता लगाता है यह कोई bots है या मनुष्य। यह बिल्कुल No Captcha recaptcha की तरह ही कार्य करता है।

लाभ :- अब तक के जितने भी कैप्चा है सबसे कारगर यही साबित हुआ है क्योंकि इसमें यूजर को कुछ भी करने की जरूरत नहीं होती है। कैप्चा ही सब कुछ देख लेता है।

हानि :- अभी तक इस कैप्चा का तोड़ निकालने के लिए टेक्नोलॉजी विकसित तो नहीं हुई है लेकिन शायद भविष्य में ऐसी टेक्नोलॉजी आ सकती है।

Biometric Captcha

Biometric Captcha अभी तक मार्केट में नहीं आया है लेकिन संभावना है कि फ्यूचर में इस प्रकार की कैप्चा आ सकता है। आजकल लगभग सभी स्मार्टफोन में फिंगरप्रिंट सेंसर आने लगे हैं। इसी को ध्यान में रखते हुए Biometric Captcha को बनाने का प्रावधान किया जा रहा है।

इसमें जब भी कोई व्यक्ति किसी वेबसाइट पर जाएगा तो कैप्चा की जगह अपने फोन में अपना फिंगरप्रिंट वेरीफाई करेगा।

लाभ :- बायोमेट्रिक कैप्चर में किसी प्रकार का कोई भी कैप्चर भरने की जरूरत नहीं पड़ेगी। सिर्फ इसमें यूजर को अपना बायोमैट्रिक वेरीफाई करना होगा। जिससे यह बहुत ही ज्यादा सुरक्षित रहेगा।

हानि:- एक बार बायोमेट्रिक वेरीफाई होने के बाद कोई भी व्यक्ति उस अकाउंट को बदल नहीं सकता है।

घर बैठकर यूट्यूब से पैसे कैसे कमाए।

किसी भी युटुब चैनल की monthly इनकम कैसे पता करें

किसी भी मोबाइल में दो से ज्यादा गूगल अकाउंट कैसे बनाएं।

अब तक आपने Captcha का मतलब तथा इसके विभिन्न प्रकार समझ गए होंगे। लेकिन कैप्चा को विरोध का भी सामना करना पड़ा था।

CAPTCHA का विरोध

शुरुआती दौर में सब कुछ ठीक था लेकिन जैसे-जैसे टेक्नोलॉजी आगे बढ़ते गई लोग कैप्चा का विरोध करने लगे क्योंकि लोगों को Captcha का मतलब नहीं पता था और इन्हें कैसे उपयोग करते हैं यह भी नहीं पता था। कैप्चा solve करते समय कुछ ऐसे शब्द थे जिन्हें कोई मनुष्य भी नहीं समझ पाता था। बार-बार रिफ्रेश करने के बाद भी ऐसे वर्ड आ ही जाते थे कि किसी को ना समझ में आए। लोगों को लगता था इनका ज्यादातर समय कैप्चा भरने में ही चला जाता है।

इसी समस्या को देखते हुए कच्चा भरने के लिए अलग-अलग कंपनियां बनने लगी। यह कंपनी जिस वेबसाइट की कैप्चा भरती थी उनसे पैसे लेती थी जिससे उस वेबसाइट पर आने वाले लोगों को कैप्चा न भरना पड़े।

फिर गूगल ने 2009 में रीकैप्चा नामक कंपनी को खरीद लिया और इसमें कुछ बदलाव करके i am not robot नाम का एक कैप्चर तैयार किया। इस कच्चा के बारे में थोड़ी जानकारीीी हम लोग उपरोक्त पंक्ति में देख चुके हैं।

इस कैप्चा में आपको कोई भी शब्द लिखने की जरूरत नहीं पड़ती है। आपको सिर्फ ठीक बॉक्स दिखाई देगा जिसके सामने लिखा रहेगा आई एम नॉट रोबोट आपको सिर्फ उस बॉक्स पर क्लिक करना है और अगर उस बॉक्स में सही का निशान आ जाता है तो आप आगे का काम पूरा कर सकते हैं।

I am not robot वाला CAPTCHAकैसे काम करता है?

CAPTCHA का मतलब
i’am not a robot (Captcha)

अब हम i am not robot वाला CAPTCHA का मतलब और यह कैसे काम करता है इसके बारे में विस्तार से जानेंगे।

गूगल ने i am not robot वाली कैप्चा को कुछ इस तरह से डिजाइन किया है कि अगर कोई भी व्यक्ति उस कैप्चा को भरने के लिए बॉक्स पर क्लिक करेगा।

तो गूगल बैकग्राउंड में सब कुछ मॉनिटर करता है जैसे की यह कैप्चा कैसे भरा गया, उस वेबसाइट पर कैप्चा भरने वाला व्यक्ति कितने देर से है। उस व्यक्ति का आईपी ऐड्रेस और भी बहुत कुछ जानकारी को मॉनिटर करके उस बॉक्स में सही का निशान लगाता है।

इस प्रकार की कैप्चा आप ज्यादातर गूगल की वेबसाइट पर ही देख सकते हैं।

इस प्रकार से i am not robot वाला कैसा काम करता है।

बधाई हो आपने सीखा कि:-

आपने सीखा कैप्चा कितने प्रकार के होते हैं और इनके लाभ और हानि क्या है। कैप्चा की उत्पत्ति कहां से हुई थी।

अब तक का सबसे बढ़िया कैप्चा कौन सा है और भविष्य में कौन सा कैप्चा आने वाला है।

आपने Captcha का मतलब तथा कैप्चा कैसे काम करता है यह भी समझ लिया है।

आपने i am not a robot वाले Captcha के बारे में भी विस्तार से जानकारी प्राप्त कर ली है।

2 thoughts on “CAPTCHA का मतलब क्या होता है और CAPTCHA क्यो भरते है?”

  1. Pingback: आधार कार्ड अपडेट मोबाइल नंबर: अपडेट आधार कार्ड मोबाइल से कैसे डाउनलोड करें? - Hamara hindi

Leave a Comment

Your email address will not be published.