5 संकेत क्या आप Introvert है ?

कुछ लोग अकेले रहना पसंद करते हैं और सामाजिक परिस्थितियों में सहज महसूस नहीं करते हैं। उन्हें Introvert कहा जाता है।

हो सकते हैं आपने Introvert शब्द कई बार सुना होगा। लेकिन आप इसके बारे में ज्यादा कुछ नहीं जानते हैं। इसलिए आज हम Introvert के बारे में कुछ अनसुने जानकारी प्राप्त करेंगे।

हेलो दोस्तों, कभी-कभी समाज में कुछ लोग Introvert के बारे में अक्सर गलत धारणा बना लेते हैं। लेकिन इसका वास्तविकता से कुछ भी लेना देना नहीं है।

आपने Introvert शब्द को कहीं ना कहीं सुना होगा। इसे सुनकर आपके मन में सवाल आता है कि आखिर ये Introvert मतलब क्या होता है।

आज हम Introvert के बारे में विस्तार से जानकारी प्राप्त करेंगे। इसे पढ़ने के बाद आपके सामने Introvert से संबंधित कोई भी सवाल नहीं आएगा।

Introvert क्या होता है?

Introvert-को-कैसे-पहचानें

Introvert यह किसी भी मनुष्य का व्यक्तित्व हो सकता है। Introvert का मतलब होता है शांत, शर्मिला और एकाग्र होता है।। Introvert व्यक्ति ज्यादातर समय एकांत में बिताने का इच्छुक होता है।

Introvert को हिन्दी में अंतर्मुखी कहा जाता है। अंतर्मुखी व्यक्ति सामाजिक नहीं होता है। यह व्यक्ति शांत स्वभाव वाला होता है।

Introvert या अंतर्मुखी शब्द का उपयोग किसी ऐसे व्यक्ति का वर्णन करने के लिए किया जाता है जो अंदरूनी खुशी को ज्यादा मान्यता देता है। अर्थात यह बाहरी उत्तेजना की तलाश करने के बजाए आंतरिक विचारों, भावनाओं और मनोदशाओं पर अधिक ध्यान केंद्रित करते हैं।

अंतर्मुखी ( Introvert ) व्यक्ति किसी अनजान व्यक्ति से बहुत कम बोलता है। लेकिन जब कोई उसके जैसा अंतर्मुखी व्यवहार वाला व्यक्ति मिलता है तो वह उससे खुलकर बातचीत करता है।

यह देखा गया है कि इंट्रोवर्ट लोग एक दूसरे से काफी खुलकर बातचीत करते हैं।

Introvert लोग कैसे होते हैं?

introvert-on-the-beach-scaled

Introvert वे लोग होते हैं जो सुर्खियों में रहना पसंद नहीं करते हैं। अंतर्मुखी ( Introvert ) वह व्यक्ति होता है जो अकेले रहना पसंद करता है और अपने काम पर कड़ी मेहनत करता है।

जहां कुछ लोग शर्मीले होते हैं, वहीं अन्य लोग दूसरों के साथ अधिक मिलनसार, बातूनी और खुले विचारों वाले होते हैं। अंतर्मुखी लोग शांत जगहों को ज्यादा पसंद करते हैं जहां वे अन्य लोगों द्वारा परेशान किए बिना अपनी गति से काम कर सकते हैं।

अंतर्मुखी होना कोई बुरी बात नहीं है। यह केवल एक शब्द है जिसका उपयोग हम उन लोगों का वर्णन करने के लिए करते हैं जो अकेले रहना पसंद करते हैं। या जो अकेले काम करना तथा व्यावहारिक जीवन जीना पसंद करते हैं।

अंतर्मुखी लोगों को अपने जीवन के अधिकांश भाग के लिए लोगों के साथ रिश्ते में रहने की आवश्यकता होती है। उन्हें अजनबियों के साथ मेलजोल करना मुश्किल लगता है। पार्टियों और समारोहों में उनकी बहुत कम दिलचस्पी हो सकती है।

Introvert लोग क्या सोचते हैं?

अंतर्मुखी ( Introvert ) लोगों को लगता है कि उनका आत्म-मूल्य पर्याप्त नहीं है और वे अपने जीवन से संतुष्ट नहीं हैं।

introver-being-alone

अंतर्मुखी (Introvert) वे लोग होते हैं जो बाकी लोगों की तुलना में शांत होते हैं। वे उन चीजों पर ध्यान केंद्रित करना पसंद करते हैं जो उन्हें दिलचस्प और सार्थक लगती हैं। वे भीड़ में रहना पसंद नहीं करते हैं और इसलिए वे थोड़े से शर्मीले हो सकते हैं।

अंतर्मुखी वे लोग होते हैं जो अकेले रहना पसंद करते हैं। वे अपने समय का उपयोग रिचार्ज करने, आराम करने और पढ़ने के लिए करते हैं। उन्हें लोगों के समूह में खुद को व्यक्त करना मुश्किल लगता है और वे अन्य लोगों के साथ बातचीत करना नहीं पसंद करते हैं।

Introvert यह अपने कामों के लिए दूसरों के तारीफ पर निर्भर नहीं करते हैं। वे आत्मनिरीक्षण करने वाले हो सकते हैं। इन्हें जो सही लगता है वही करते हैं। अक्सर देखा गया है कि इंट्रोवर्ट लोग सही और गलत में फर्क समझने में सफल व्यक्ति माने जाते हैं।

अंतर्मुखी लोग एकांत में समय बिताना पसंद करते हैं और जब वे सार्वजनिक रूप से बात करते हैं तो वे असहज महसूस कर सकते हैं।

Introvert कैसे रहना पसंद करते हैं?

introvert-enjoying-alone-scaled

Introvert अक्सर अपना ज्यादातर समय एकांत जगह पर अकेले बिताते हैं। अंतर्मुखी ( Introvert ) को “शांत” कहा जाता है क्योंकि वे ऐसा जीवन चुनते हैं जहां वे अपने विचारों पर ध्यान केंद्रित कर सकें और अन्य लोगों की गतिविधियों से विचलित न हों।

उनमें शर्मीलेपन की प्रवृत्ति भी हो सकती है और वे ज्यादा बहस नहीं करते हैं। खासकर जब वे घबराए हुए या चिंतित हों।

अंतर्मुखी अक्सर अपने आप में आत्मविश्वास की कमी के कारण आत्मसम्मान की परवाह नहीं करते हैं परन्तु जब किसी चीज की हद पार हो जाती है तो यह बहुत ही आक्रामक हो जाते हैं। ये किसी चीज की प्लानिंग में बहुत ही निपुण होते हैं।

यदि आप अंतर्मुखी हैं, तो हो सकता है कि आप सामाजिक परिस्थितियों में सहज न हों। शायद, आप थोड़े शर्मीले हैं और अपने विचारों के साथ अकेले रहना पसंद करते हैं।

अंतर्मुखी लोगों में अपनी भावनाओं को नियंत्रण में रखने और अपनी भावनाओं को खुलकर नहीं दिखाने की प्रवृत्ति होती है।

अंतर्मुखी होना कोई बुरी बात नहीं है। अंतर्मुखी बहुत रचनात्मक और उत्पादक लोग होते हैं। हालाँकि, इसके कारण उन्हें मित्र बनाने और अन्य लोगों के साथ तालमेल बिठाने में परेशानी हो सकती है।

Introvert ( अंतर्मुखी ) को अक्सर शर्मीला या शांत बताया जाता है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि उनके पास कोई सामाजिक कौशल नहीं है।

Introvert कितने प्रकार होते हैं

हर व्यक्ति किसी न किसी तरह से Introvert होता है। चलिए देखते हैं कि आप किस तरह के Introvert है?

आप में से कुछ लोग सोचते हैं कि Introvert सिर्फ घर पर अकेले रहना पसंद करते हैं। वे सामाजिक नहीं होते हैं। लेकिन नहीं Introvert के बहुत प्रकार होते हैं।

इनमें से कुछ नीचे बताया गया है:

सामाजिक अंतर्मुखी (Social Introvert):

इस प्रकार के अंतर्मुखी (Introvert) छोटे समूह में रहना पसंद करते हैं। ये बड़े लोगों की ग्रुप के साथ नहीं रहते हैं। यह शांत माहौल में रहना पसंद करते हैं। इन्हें शोर गुल में रहना पसंद नहीं होता है।

अंतर्मुखी सोच ( Thinking Introvert):

इस वर्ग वाले Introvert अपना अधिकतर समय सोचने विचारने में लगाते हैं। इस तरह के अधिकतर लोग शोधकर्ता तथा रचनात्मक होते हैं।

चिंतीत अंतर्मुखी ( Anxious Introvert ):

चिंतीत अंतर्मुखी ( Anxious Introvert ) अक्सर लोगों से बातचीत करने में घबराते हैं। जब कुछ साधारण लोग इनसे बात चीत करने आते हैं तो ये घबराने लगते हैं। इनको पता होता है कि वे लोग इनके साथ कुछ ग़लत व्यवहार नहीं करेंगे।

संकोची अंतर्मुखी (Inhibited Introvert):

जैसे की नाम से पता चलता है कि संकोची Introvert हर काम को करने में संकोच करते रहते हैं।

ये किसी भी काम को करने से पहले बहुत सोच विचार करते हैं। उसके बाद अपना अंतिम निर्णय लेते हैं।

ऐसा नहीं है कि सभी अंतर्मुखी (Introvert) सामाजिक नहीं होते हैं। बहुत लोगों को देखा गया है कि वे ज्यादा बात चीत नहीं करते हैं। परन्तु सामाज के साथ ही रहना पसंद करते हैं।

Introvert (अंतर्मुखी) और शर्मीलापन में क्या अंतर होता है?

कुछ लोगों का मानना है कि हर शर्मिला व्यक्ति इंट्रोवर्ट ही होता है। लेकिन ऐसा नहीं है कि हर शर्मिला व्यक्ति Introvert ही होता है।

शर्मीलापन लोगों या फिर सामाजिक परिस्थितियों पर निर्भर करता है। वहीं दूसरी ओर, Introvert लोग अन्य लोगों के साथ बातचीत करने में ज्यादा समय नहीं बिताना पसंद करते हैं।

अंतर्मुखी उन लोगों को संदर्भित करता है जो मुख्य रूप से अपने स्वयं के विचारों और भावनाओं में रुचि रखते हैं, जबकि शर्मीलापन उन लोगों को संदर्भित करता हैं जो मुख्य रूप से दूसरों की राय में रुचि रखते हैं।

Introvert और अवसाद (Depression) में क्या विभिन्नताएं होती हैं?

यदि आप सामाजिक स्थितियों या गतिविधियों के कारण उदास, चिंतित, अकेलापन इत्यादि महसूस कर रहें हैं तो यह अवसाद ( Depression ) के संकेत हो सकत हैं। चाहे आपका व्यक्तित्व कैसा भी हो।

अंतर्मुखी और अवसाद दो अलग-अलग चीजें हैं। पहला है व्यक्ति का व्यक्तित्व, दूसरा है उनकी मनःस्थिति।

इस लेख में हम चर्चा करते हैं कि अंतर्मुखी और अवसाद क्या हैं?

अंतर्मुखी व्यक्तित्व का प्रकार है जो अंतर्मुखता की विशेषता है। अंतर्मुखी वह होता है जो अकेले कम समय और लोगों के साथ अधिक समय बिताना पसंद करता है।

Frontiers के मुताबिक ज्यादा Introvert अवसाद या Dipression का कारण बन सकता है। अगर आप अकेलापन, उदास तथा चिंतित हैं तो डाक्टर या फिर घर वाले को इसके बारे में जानकारी दें।

अंतर्मुखी (Introvert) के बारे में क्या भ्रांतियां हैं?

समाज में Introvert लोगों के बारे में एक आम भ्रांति यह है कि वे शर्मीले होते हैं। कुछ अंतर्मुखी (Introvert) शर्मीले हो सकते हैं, लेकिन सभी अंतर्मुखी ( Introvert ) लोगों के लिए ऐसा नहीं है।

इस तरह के अन्य मिथक प्रदर्शित किया गया है:

अंतर्मुखी ( Introvert) दोस्ताना व्यवहार वाले नहीं होते हैं।

अंतर्मुखी (Introvert) होने से यह प्रभावित नहीं होता कि आप कितने मिलनसार हैं। कुछ लोग सोच सकते हैं कि अंतर्मुखी लोग मित्रताहीन होते हैं क्योंकि उनके पास ज्यादा दोस्त नहीं होते हैं। वे सभाओं में बातचीत में शामिल होने के बजाय चुपचाप सोच में पड़े रहते हैं।

Introvert लीडर (Leader) नहीं हो सकते।

यद्यपि लोग एक बहिर्मुखी (Extrovert) व्यक्तित्व के बारे में सोचते हैं जब वे एक नेता की कल्पना करते हैं। बल्कि अंतर्मुखी लोगों के पास मालिक और लीडर होने का कौशल भी होता है।

उनके कुछ गुण उन्हें प्रभावी नेता बनाते हैं: वे अपने कर्मचारियों के विचारों को सुनते हैं, वे दीर्घकालिक लक्ष्यों पर ध्यान केंद्रित कर सकते हैं।

अंतर्मुखी को समझना कठिन होता है।

Introvert छोटी-छोटी बातों पर ध्यान नहीं देते हैं।

ये केवल कुछ मुट्ठी भर लोगों के साथ ही गहरी दोस्ती करना पसंद करते हैं। लेकिन जिन लोगों के वे करीबी हैं वे उन्हें बहुत अच्छी तरह से जानते हैं और उनके साथ वास्तविक मित्रता विकसित करते हैं।

निष्कर्ष ( Conclusion )

अगर किसी व्यक्ति में अंतर्मुखी (Introvert) तथा बहिर्मुखी (Extrovert) दोनों के गुण पाए जाते हैं, तो उन्हें उभयवर्ती (Ambivert) कहा जाता है।

एक प्रसिद्ध स्टडी के मुताबिक दुनिया में लगभग 70 % लोग उभयवर्ती (Ambivert) होते हैं।

एंबीवर्ट्स दूसरों के साथ समय बिताने और अकेले समय बिताने दोनों का आनंद लेते हैं।

ये समय की स्थिति और उनकी जरूरतों के आधार पर अपने आप को उस परिस्थिति में आसानी से ढाल लेते हैं।

ऐसा कहा जाता है कि अधिकांश भारतीय लोग उभयवर्ती (Ambivert) होते हैं।

क्योंकि भारत में अलग-अलग परंपरा को मानने वाले लोग रहते हैं।

जब भी कोई व्यक्ति अपनी समाज तथा घर को छोड़कर किसी अन्य समाज तथा राज्य में जाता है। तो वह व्यक्ति काफी कम समय में अपने आप को उस परिस्थिति के अनुसार ढाल लेता है।

यह तय करते समय कि आप अंतर्मुखी, बहिर्मुखी या उभयलिंगी हैं, याद रखें कि एक प्रकार दूसरे से बेहतर नहीं है।

स्थिति के आधार पर प्रत्येक प्रवृत्ति के लाभ और कमियां हो सकती हैं। हालाँकि, अपने व्यक्तित्व को बेहतर ढंग से समझकर, आप सीख सकते हैं कि अपनी ताकत के अनुसार कैसे समाज में अपना योगदान दे सकते हैं।

अगर आपको इस पोस्ट से संबंधित किसी भी प्रकार का सवाल आता है तो आप कमेंट में अवश्य पूछें। आपके सवालों का जवाब जरूर दिया जाएगा।

0 Comments

No Comment.

Scroll to Top